Tuesday, December 28, 2010

मेरे देश को एक और मोहनदास करमचंद गाँधी चाहिए...



घोटालों पर घोटालें सामने आते जा रहे हैं ।महँगाई की मार खा-खा कर भी अपने देश के लोग मूक दर्शक बने अपने घरों से बैठें हैं.....अपने धंधों से थोड़ी -सी फुरसत निकालकर कर कुछ करने की तकलीफ नही उठाना चाहते। जनता देख रही है कि कोई विपक्ष की पार्टी कुछ हंगामा करती रहे और हम घर बैठे सही-गलत का आंकलन करते रहें। नुक्कड़ -चौराहों और दफतरों मे आपस मे बहसियाते रहें और देश को लूटने वाले देश को लूटते रहें।सब बराबर का दुख भोग रहे हैं. लेकिन घर से बाहर निकल कर हम इस भारी तकलीफ में भी कोई मोर्चा या अंदोलन करने की ओर नही बढ़ पा रहे हैं। कारण साफ है आज हममें से किसी को भी किसी एक नेता पर विश्वास नही है...कोई भी ऐसा नेता नही है जो देशहित -जनहित मे देश की जनता के सामने खरा उतरता हो।

दूसरी और देश के विभिन्न संगठन भी ना जानें कानों मे रूई डाल कर कहाँ सोये हुए हैं। उन्हें देश की जनता की तकलीफ बिल्कुल नजर नही आ रही। ऐसा लगता है कि इन सभी ने अपनी-अपनी आँखों पर पट्टी बाँध रखी हैं...सभी सूरदास की भूमिका निभा रहें हैं।आप सब  यह देख कर हैरान हो सकते हैं जो इस समय अंधे-बहरों की भूमिकायें निभा रहे हैं ..यदि इन्हें अभी कोई दंगा या तोड़ फोड़ करनी हो तो ये सारे काम छोड़ कर ऐसी -ऐसी तुछ बातॊं पर बवाल मचा सकते हैं जिन बातों का देश की जनता से या किसी की दुख तकलीफ से दूर -दूर तक का कोई नाता नही होता। अपने आप को देश का हितेषी बताने वाले संगठन और राजनैतिक पार्टीयां इस समय एक दूसरे की टाँग खींचने में ....एक दूसरों को नीचा दिखानें की होड़ मे व्यस्त हैं। उन्हें इस बात की चिंता है कि उनकी बात मानी जाये।भले ही यह बात देश की जनता को कोई फायदा पहुँचा सकती हो या नहीं।इस बात से इन्हें कोई सरोकार नही लगता।सभी एक दूसरों को अपने से बड़ा चोर.....अपने से बड़ा भ्रष्टाचारी साबित करनें की जद्दोजहद में लगे हुए हैं।देश की जनता भी सोच रही है और यह तमाशा  खामोंशी से देखते हुए सोच रही होगी कि इन सब से देश को क्या फायदा मिलने वाला है।किसी के चोर और भ्रष्ट साबित हो जाने से कुछ होने वाला तो है नही। फिर कोई जाँच कमेटी का गठन हो जायेगा...और सालों तक वह कमेटी जाँच करती रहेगी और देश को बेफकूफ बनाती रहेगी और आखिर मे इतना ज्यादा समय जाँच में लगा देंगें कि देश की जनता यह भी भूल जायेगी कि आखिर ये कमेटी किस जाँच के लिये गठित की गई थी। वैसे भी यह हमारे देश का इतिहास रहा है कि ऐसी किसी भी जाँच कमेटी ने आज तक ऐसा कोई फैसला ही नही दिया जिस से किसी अपराधी या दोषी को कोई सजा हुई हो। फिर बार-बार ऐसी जाँच कमेटीयों का गठन कर के देश की जनता का पैसा क्यों बर्बाद कर रही हैं ये देश भक्त पार्टीयाँ!!

यदि हमारे देश की सभी राजनैतिक पार्टीयां एक कानून पास कर दे तो हमारे देश से यह चोर बाजारी व भ्रष्टाचार काफी हद तक दूर हो सकता है।आप सोच रहे होगें कि ऐसा कौन -सा कानून बनाया जा सकता है? क्योंकि हमारे देश के कर्णधार इतने शातिर हैं के वे कोई ना कोई ऐसा तोड़ निकाल ही लेते हैं जिस से काला कारनामा कर के भी बचा जा सके।यदि देश की जनता जागरूक होकर एक ऐसा दबाव इन सभी पार्टीयों पर डाल कर यह कानून बनवा सके कि---

जिस पार्टी के सदस्य देश का धन हड़प करते है...खा जाते हैं वही पार्टी उस धन को देश के खजाने में जमा करवाने के लिये बाध्य होगी।दूसरा-- ऐसे भ्रष्ट नेता या पार्टी के सदस्य को या उसके परिवार के किसी सदस्य को कभी भी देश में किसी पार्टी की सदस्यता नही दी जा सकेगी।उसे चुनाव मे खड़ा होने का कोई अधिकार नही होगा।--
 

देश की जनता व पार्टीयों  के लिये भी ये कानून पास कर दिया जाये कि जो भी कोई देश की संपत्ति को नुकसान पहुँचाएगा ....उसी  को या उसकी पार्टी को उस नुकसान की भरपाई करनी पड़ेगी।

ऐसे मे हर्जाना वसूलनें के लिये जब ऐसे लोगों की संपत्ति जब्त होगी तो ऐसे लोगों की अक्ल ठिकानें पर आ सकती है।क्योंकि देश की जनता को दोषी को सजा होने से कोई लाभ नही होता। इस तरह के नुकसानों का भार अंतत: देश की जनता पर ही पड़ता है।

लेकिन मैं और आप सब जानते हैं कि ऐसा तभी हो सकता है जब देश में फिर से कोई मोहनदास कर्मचंद गाँधी पैदा हो और इस देश की जनता की अगुवाई करते हुए देश का हित साध सके।अब तक इस देश को नकली गाँधीयों से बहुत नुकसान पहुँचा है....इस लिये जब तक कोई असली गाँधी पैदा ना हो जाये हम सब को प्रतीक्षा करनी पड़ेगी।


30 comments:

  1. आप को नवबर्ष की हार्दिक शुभ-कामनाएं !
    आने बाला बर्ष आप के जीवन में नयी उमंग और ढेर सारी खुशियाँ लेकर आये ! आप परिवार सहित स्वस्थ्य रहें एवं सफलता के सबसे ऊंचे पायदान पर पहुंचे !

    नवबर्ष की शुभ-कामनाओं सहित

    संजय कुमार चौरसिया

    ReplyDelete
  2. अच्छी प्रस्तुति।
    "नूतन वर्ष की हार्दिक शुभ-कामनाओं के साथ "

    ReplyDelete
  3. अच्छी प्रस्तुति । नववर्ष स्वजनों सहित मंगलमय हो आपको । सादर - आशुतोष मिश्र

    ReplyDelete
  4. लेख बहुत अच्छा है। विचारणीय है।
    आप को सपरिवार नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं .

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर लेख तथा विचारणीय लेख,
    बहुत बहुत शुभकामना

    ReplyDelete
  6. जय श्री कृष्ण...आप बहुत अच्छा लिखतें हैं...वाकई.... आशा हैं आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा....!!

    ReplyDelete
  7. adbhut lekh k liye badhai sweekar karein .......ab mai yahan pr aksar aata jata rahunga............
    bahut kuch sochne aur samajne k liye hai yaha pr

    ReplyDelete
  8. नाथू राम गोडसे परमाणु बोम्ब का प्रयोग कर सकता है ।
    हा हा हा हा ..................... लेकिन नाथू राम गोडसे बहुत हैं ।


    मिनिस्टर का लड़का फ़ैल हो। क्या वो मिनिस्टर उसे गोली मार देगा ? क्लिक कीजिये और पढ़िए पूरी कहानी और एक टिपण्णी छोड़ देना

    ReplyDelete
  9. राष्ट्रपिता की पुण्य तिथि पर बापू को हमारा नमन!

    मेरी नई पोस्ट "बापू को श्रद्‌धाञ्ञलि"पर आपका स्वागत है!

    ReplyDelete
  10. कल है तेदीिवेय्र डे मुबारक हो आपको एक दिन पहले

    _____#####__________####_____
    ____#_____#_#####__#____#____
    ___#__###_##_____##__###_#___
    ___#__##___________#__##_#___
    ___#_____________________#___
    ____#__#___##___##___#_##____
    _____##____##___##____#______
    ______#_______________#______
    ______#______###_____________
    ______#_____#_###_____#______
    ______#______###______#______
    _______#__##_____##__#_______
    _____###____#####____###_____
    ___##___#___________#___##___
    __#______####___####______#__
    _#___________###___________#_
    #__#______________#______#__#
    #___#__###_________###__#___#
    #___###_______________###___#
    _#__#__#_____________#__#__#_
    __##__####____#____##_#__##__
    _____#____#_______#____#_____
    ____#______#_____#______#____
    ____#______#_____#______#____
    ____#______#_____#______#____
    ____##____###___###____#_____
    _____##################____

    Happy Teddy Vear Day

    ReplyDelete
  11. सिर्फ गाँधी से काम नहीं चलने वाला गुरु
    भगत राजगुरु और सुखदेव जैसो की भी जरुरत है
    सुभाष जैसा नेता ही देश को सही नेतृत्व दे सकता है

    ReplyDelete
  12. sorry sir... par apne desh ko na gandhi chahiye aur na hi bahgat singh ya chandrashekhar aazad... apne desh ko koi hitlar ya musolini chahiye...

    ReplyDelete
  13. VICHARNIY LEKH LIKHA HAI AAPNE. . . . . . . . MERE BLOG PAR AANE KE LIYE AABHAR. . . ,
    JAI HIND JAI BHARAT

    ReplyDelete
  14. Main aapke vicharon ka purjor samrthan karta hun..
    bahut hi vicharneeya prastuti.. Aabhar..

    ReplyDelete
  15. आपसे सहमत नहीं हूँ। हमें अपने भीतर गाँधी जगाना होगा, आखिर गाँधी भी तो हमारे ही तरह के थे। आपने इतनी गहरी भावना से यह पोस्ट लिखा उसके लिए बधाई

    ReplyDelete
  16. गाँधी से गोरे सुधर सकते हैं , आज के नेता लात घूंसों की भाषा अच्छे से समझते हैं |

    ReplyDelete
  17. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें
    vikram7: आ,साथी नव वर्ष मनालें......

    ReplyDelete
  18. Aapne ek saal se adhik ho gaya,kuchh likha nahee hai blog pe....aisa kyon?Sab khairiyat to hai?
    Naya saal bahut mubarak ho.

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर लेख !!!
    शुभकामनायें !!

    ReplyDelete
  20. क्यों न हम ही असली गांधी बन जाएँ.

    ReplyDelete
  21. सार्थक पोस्ट,बधाई .

    ReplyDelete
  22. वाह! बहुत खूब लिखा है आपने! लाजवाब प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  23. सच कह रहे हैं पर क्या गांधी जी की बात सुनेंगे ये नेता जब तबके नेताओं ने नही सुनी ।

    ReplyDelete
  24. बहुत प्रेरक लेख ।

    ReplyDelete
  25. जिन्हें किसी और से गांधी बनने की उम्मीद है,उन्हें देश के प्रति दिखावा करने का अधिकार नहीं है।

    ReplyDelete